नई शिक्षा नीति कैसे लागू होगी 62000 आंगनबाड़ी केंद्रों में चलनी है pre-primary कक्षाएं


Rajasthan ka Master: केंद्र सरकार के द्वारा भले ही नई शिक्षा नीति जारी कर दी गई हो, लेकिन राजस्थान में 62000 से ज्यादा आंगनवाड़ी केंद्रों में प्री प्राइमरी की कक्षाएं शुरू होनी है।

किंतु सामने आया है कि केवल ढाई हजार शिक्षकों के भरोसे बरसों से 62000 आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हो रहे हैं।

सबसे बड़ा सवाल यह है कि कमजोर बुनियादी व्यवस्था के चलते नई शिक्षा नीति कैसे लागू हो पाएगी।

राजस्थान में 62000 आंगनवाड़ी केंद्रों में से केवल 1593 संचालित हैं, जिनमें से 35000 के पास खुद की भवन हैं।

 27318 केंद्रों के पास खुद के शौचालय तक नहीं हैं, जबकि 13186 केंद्रों में पीने के पानी की समस्या भी है।

इतना ही नहीं 10553 भवन किराया में हैं और 18565 आंगनबाड़ी केंद्र सरकारी विद्यालय में संचालित हो रहे हैं, जबकि 4020 अन्य गांव में चल रहे हैं।

इसके साथ ही 2645 सामुदायिक भवन और मंदिरों में संचालित हो रहे हैं, जबकि 1000 आंगनवाड़ी केंद्रों के भवन भयानक जर्जर अवस्था में हैं।

उल्लेखनीय है कि कोरोनावायरस के चलते करीब 5 महीने से आंगनवाड़ी केंद्र बंद पड़े हैं जिनकी हालत बदतर हो रही है। 

केंद्र सरकार ने भले ही नई शिक्षा नीति लागू कर दी हो लेकिन 27300 अट्ठारह आंगनवाड़ी केंद्रों के पास खुद की टॉयलेट भी नहीं हैं। 

प्रदेश में अभी तक ग्रामीण क्षेत्र में 45345 आंगनबाड़ी केंद्र हैं, जबकि शहरी क्षेत्रों में 3378 जनजाति क्षेत्र में 7093 आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हो रहे हैं।

कुल मिलाकर 55816 आंगनबाड़ी केंद्र हैं , जबकि 6204 मिनी आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हैं

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post