90 से अधिक स्कूलो के 350 अभिभावको का दर्द छलका शिक्षा संकुल पर हुए एकजुट



Rajasthan ka master: कोविड-19 के दौरान आर्थिक मार से त्रस्त जनता अब सड़कों पर उतरकर अपनी गुहार लगा रही है। इसी के तहत 'नो स्कूल, नो फीस नो ऑनलाइन' क्लास की मांग को लेकर राजधानी के 90 से अधिक स्कूलों के 350 से अधिक अभिभावक प्रतिनिधियों ने अपना दर्द शालीनता एवं शांति के साथ जेएलएन मार्ग स्थित शिक्षा संकुल पर बयां किया।

संयुक्त अभिभावक समिति जयपुर द्वारा रविवार को प्रातः 10 बजे से अभिभावक एकता रैली का आव्हान किया गया था, जिसे पुलिस द्वारा आयोजकों को समझाईश के पश्चात शिक्षा संकुल पर ही अपनी बात कहने एवं उपस्थित पुलिस अधिकारीयों को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन देकर सम्पन्न करवा दिया गया और पांच सदस्यों को गांधी सर्किल जाने की अनुमति दी गई जहां संयुक्त अभिभावक समिति के पदाधिकारियों ने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर निजी स्कूलों को सद्धबुद्धि मिले की प्रार्थना की।

इस अवसर पर संयुक्त अभिभावक परिषद के सयोजक सुशील शर्मा, महामंत्री मनीष विजयवर्गीय, कोषाध्यक्ष संजय गोयल, प्रवक्ता अरविंद अग्रवाल, ईशान शर्मा, मनोज शर्मा, मीडिया सयोजक अभिषेक जैन बिट्टू, आशिफ़ा, जवाहर शर्मा, नरेश जैन, सर्वेश मिश्रा, चन्द्र मोहन गुप्ता, मनीष जैन, श्रीमती अंजना शर्मा, दौलत शर्मा, अमृता सक्सेना ने पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों को गुलाब का फूल दे सरकार तक अभिभावको का दर्द पहुचाने का निवेदन किया।

महात्मा गांधी की फ़ोटो के साथ नो स्कूल नो फीस के पर्चे लिए अभिभावक सोशल डिस्टेंसिग का पालन करते हुवे बिना एक भी नारा लगाए मीडिया के माध्यम से मुख्यमंत्री शिक्षा मंत्री एवं स्कूल प्रबन्धकों से अपना दर्द बयां करते नज़र आये।

महामंत्री मनीष विजयवर्गीय ने कहा कि समाज सेवा के नाम पर रियायती दरों पर सरकार द्वारा दी गई अनुदानित भूमि का उपयोग आज व्यवसायिक परिसर की तरह किया जा रहा है, कोविड के दौरान भी अभिभावको को राहत देने की जगह उनकी इज्जत से सुनवाई नही होना शर्मनाक है।

प्रवक्ता ईशान शर्मा ने कहा कि वर्तमान शिक्षा व्यवस्था चंद पूँजीवादियों की गिरफ्त में है जिससे देश को मुक्त करवाना होगा।

कोविड के दौरान भी अपनी जान जोखिम में डालकर शांति पूर्ण रैली में सम्मिलित अभिभावको ने जिस एकता का परिचय दिया वह काबिले तारीफ है पुलिस की समझाइश के बाद समिति प्रवक्ता मनोज शर्मा ने सराहना करते हुये रैली के समापन की घोषणा की।

कहा कि यदि सरकार ने आवाज नही सुनी तो आज से भी बड़ी रैली जिसमे हजारों लोगों के विरोध का सामना करना होगा। आज केवल स्कूलों के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए थे आगे प्रत्येक अभिभावक सम्मिलित होगा।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post