MGS यूनिवर्सिटी (बीकानेर) : मंत्रीजी के रिश्तेदारों पर मेहरबान सरकारी तंत्र


Rajasthan ka Master:
-इंजीनियरिंग कॉलेज से महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय में प्रतिनियुक्ति पर लगाने की तैयारी।
बीकानेर के एक वरिष्ठ मंत्री के रिश्तेदारों को कोरोना संकट से निकालने के लिए तकनीकी शिक्षा विभाग, महाराजा गंगासिंह विश्विद्यालय और बीकानेर इंजीनियरिंग कॉलेज के अधिकारियों ने जुगाड़ बिठाना शुरू कर दिया है। 

इंजीनियरिंग कॉलेज में कोरोना संकट के चलते करीब पांच माह से कार्मिकों को वेतन नहीं मिल पाया है। 

ऐसे में इंजीनियरिंग कॉलेज में लगे मंत्रीजी के रिश्तेदारों को महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय में बतौर प्रतिनियुक्ति लगाने की तैयारी जोर-शोर से चल रही है।

हैरानी की बात तो यह है कि जिस विषय के लिए रिश्तेदारों को लगाने के प्रयास चल रहे हैं, वह विषय हाल-फिलहाल महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय में है ही नहीं। लिहाजा प्रतिनियुक्ति के लिए रास्ता निकालने में विश्वविद्यालय जुट गया है। 

जानकारों की मानें तो रिश्तेदारों के लिए विश्वविद्यालय कॉमर्स एण्ड मैनेजमेंट विषय को शुरू करने की तैयारी कर रहा है।

तकनीकी विभाग में मांगी टिप्पणी

विश्वविद्यालय में भले ही वर्तमान में कॉमर्स एण्ड मैनेजमेंट संकाय नहीं हो लेकिन, मंत्रीजी के रिश्तेदारों को लगाने के लिए बकायदा तकनीकी शिक्षा विभाग ने पत्राचार भी शुरू कर दिया है। 

तकनीकी शिक्षा विभाग के संयुक्त सचिव डॉ. मनीष गुप्ता ने गंगासिंह विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार को पत्र लिखकर प्रतिनियुक्ति की इच्छा जाहिर करने वाले कार्मिकों के बारे में विस्तृत टिप्पणी मांगी है। प्रतिनियुक्ति मिलने के बाद संबंधित कार्मिकों का वेतन विश्वविद्यालय से ही उठेगा।

पहले भी लगे हैं आरोप

इंजीनियरिंग कॉलेज में अधिकतर नेताओं के रिश्तेदारों को लगाने की शिकायतें पूर्व में भी काफी सुर्खियों में रही थी। 

अब जब इंजीनियरिंग कॉलेज के कार्मिकों को वेतन चुकाने का संकट आया तो सबसे पहले मंत्रीजी के रिश्तेदारों की याद आई। 

इंजीनियरिंग कॉलेज, विश्वविद्यालय और तकनीकी शिक्षा विभाग के जुगाड़ का जब इंजीनियङ्क्षरग कॉलेज के कार्मिकों को भनक लगी तो उनमें रोष बढऩे लगा है।

देखते हैं क्या होता है

विश्वविद्यालय में इंजीनियरिंग कॉलेज के तीन-चार कार्मिकों को प्रतिनियुक्ति संबंधी पत्र तकनीकी शिक्षा विभाग की ओर से मिले हैं। जिन कार्मिकों ने विश्वविद्यालय में प्रतिनियुक्ति के तौर पर आने की इच्छा जाहिर की है उनसे संबंधित विषय विश्वविद्यालय में नहीं है। कॉमर्स एण्ड मैनेजमेंट विषय महाविद्यालय में खोलने पर विचार चल रहा है, देखते हैं क्या होता है।

- भंवर सिंह चारण, रजिस्ट्रार, महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय, बीकानेर

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post