पुलिस फैल, अब शिक्षकों के हवाले अवैध बजरी खनन रोकने का जिम्मा...


Rajasthan ka master:। जिला उप कलेक्टर की तरफ से आदेश जारी कर 8 शिक्षकों की ड्यूटी अवैध बजरी खनन के यातायात पर रोक लगाने और परिवहन करने वाले वाहनों की संख्या गिनकर संबंधित थाना अधिकारी को उसकी पूरी रिपोर्ट देने को कहा गया है। 


उल्लेखनीय है कि अप्रैल 2017 में बजरी खनन पर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा रोक लगाई गई थी। तब से लेकर अब तक राज्य में दो अलग-अलग दलों की सरकारें बनीं, लेकिन अभी तक अवैध बजरी खनन की तस्करी रुकने का नाम नहीं ले रही है। 


अवैध बजरी खनन परिवहन एवं अवैध रूप से बजरी के बेचने खरीदने के मामले में अब तक तस्करी करने वालों के द्वारा कई लोगों को मौत के घाट उतारा जा चुका है। 


कई पुलिसवाले भी अपनी जान गवा चुके हैं, जबकि राज्य सरकार लगातार बजरी खनन को रोकने के दावे कर रही है, किंतु फिर भी रुका नहीं है।


 अब सवाईमाधोपुर के उप जिला मजिस्ट्रेट के द्वारा आदेश जारी कर अलग-अलग पारियों में 8 शिक्षकों की नियुक्ति की गई है, जिनको बौली थाना क्षेत्र में लगाया गया है। 


यहां पर उनकी दो-दो शिक्षकों की अलग-अलग पारियों में ड्यूटी लगेगी और पुलिस के साथ कोडिनेट करके यह शिक्षक पूरी रिपोर्ट देंगे।


 शिक्षकों के द्वारा ड्यूटी करने के साथ ही दो टीचर को एक्स्ट्रा में रखा गया है। यदि किसी के द्वारा छुट्टी लेने का काम किया जाए या किसी कारणवश अनुपस्थित रहे तो उनकी जगह उनको ड्यूटी देनी होगी। 


सुबह 6:00 बजे से लेकर 2:00 बजे तक और उसके बाद 2:00 बजे से लेकर रात को 8:00 बजे तक और तीसरी पारी में रात को 8:00 बजे से लेकर सुबह 6:00 बजे तक दो 2 शिक्षकों को अलग-अलग पारियों में अवैध बजरी खनन रोकने का काम करना होगा।  ऐसा नहीं करने पर संबंधित शिक्षक के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post