किसानों के समर्थन में उतरे राजस्थान के शिक्षक


-किसान आन्दोलन के समर्थन में प्रदेश भर में उपवास पर रहे शिक्षक संघ शेखावत के हजारों शिक्षक

 तीन किसान विरोधी कृषि कानून के खिलाफ देश भर में चल रहे किसान आन्दोलन के समर्थन में बुधवार को प्रदेशभर में राजस्थान शिक्षक संघ शेखावत के हजारों शिक्षकों ने दोपहर का भोजन त्याग कर किसान आन्दोलन के समर्थन में उपवास किया। 
      
प्रदेश संघर्ष समिति संयोजक भवानी शंकर शर्मा जिला मंत्री, जयपुर  ने बताया कि  निजीकरण और ठेकाकरण की मंशा से केन्द्र सरकार कृषि उपज मंडियों का निजीकरण और खेती का संविदाकरण करके किसानों को बर्बाद करने पर आमादा है। यह तीन कृषि कानून केवल कार्पोरेट कम्पनियों के पक्ष में है और किसानों तथा आमजन पर कुठाराघात करने वाले हैं। 

इसलिए देशभर का किसान इन तीन कृषि कानूनों के खिलाफ  आन्दोलन कर रहा है तथा गत 28 दिनों से दिल्ली के चारों ओर बार्डर पर इस कड़ाके की ठंड में देश के लाखों किसान संघर्ष कर रहे हैं।  और इस संघर्ष में 35 किसान शहीद भी हुए हैं। 

लेकिन केन्द्र सरकार किसानों की मांगों का निराकरण करने के बजाय प्रधानमंत्री सहित केन्द्र के मंत्री एवं भाजपा के नेता किसानों को भ्रमित करने में लगे हैं तथा आन्दोलन को कमजोर करने के लिए हर प्रकार के हथकंडा अपना रहे हैं। 
 
इसलिए केन्द्र सरकार की साज़िश और हठधर्मिता के खिलाफ देश भर से हजारों  किसान  लगातार  दिल्ली की ओर कूच कर रहे हैं। 

देश भर से विभिन्न संगठनों की ओर से किसान आन्दोलन को समर्थन मिल रहा है जिससे किसान संगठनों का हौसला और बढ़ रहा है तथा किसान संगठनों ने आन्दोलन को तेज करते हुए देश भर के किसानों एवं आमजनों से  किसान दिवस पर दोपहर का भोजन त्याग कर उपवास करने का आव्हान किया। 
        
राजस्थान शिक्षक संघ शेखावत भी किसानों  के चरणबद्ध आन्दोलन का लगातार समर्थन कर रहा है। इसलिए संगठन के प्रदेशाध्यक्ष महावीर सिहाग और प्रदेश महामंत्री उपेन्द्र शर्मा ने किसान आन्दोलन के समर्थन में प्रदेश के शिक्षकों से किसान दिवस पर दोपहर का भोजन त्याग कर उपवास करने का आव्हान किया है। 

संगठन के प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर आज प्रदेश में शिक्षक संघ शेखावत के हजारों शिक्षकों ने उपवास कर किसान आन्दोलन का समर्थन किया। 
भवानी शंकर शर्मा जिला मंत्री जयपुर

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post